National

क्या भारत-पाकिस्तान में रद्द होगा टी 20 मैच, स्टेडियम के बाहर जंग की हो रही मांग

 

डेस्क: पाकिस्तान के साथ खेल के मैदान में नहीं जंग के मैदान में लड़ाई होनी चाहिए। उसे बैट बाल के सहारे नहीं गोली बंदूक के सहारे परास्त करना होगा। कश्मीर में हो रही सहादत और टारगेट कीलिंग के बाद देशभर से ऐसी ही मांग उठ रही है। एक तरफ पाकिस्तान कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ करा रहा है और नागरिकों की हत्या कर रहा। आतंकियों का खात्मा करने में लगे हमारे वीर जवान शहीद हो रहे हैं। अलगाववादियों के साथ मिल कर लगातार साजिश रची जा रही हैं।

पाकिस्तान खेलता है आतंकी खेल!

दूसरी तरफ हम ट्वेंटी 20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के साथ मैच खेलने जा रहे हैं। मैच के होने से पीड़ितों का अपमान होगा। 24 अक्टूबर को होने वाले मैच रद्द करने के लिए देश के आम नागरिकों से सियासतदान भी लामबंद हो रहे हैं। लोगों का कहना है कि पाकिस्तान आतंकी पैदा करता है ? उसके साथ आखिर मैच क्यों खेलें? जो पाकिस्तान कश्मीर में आतंकी भेजता है उसके साथ मैच क्यों खेलें ? जो पाकिस्तान आतंकी खेल खेलता है, उसके साथ क्रिकेट के मैदान में खेल क्यों खेलें क्यों नहीं जंग के मैदान में उसे सबक सिखाएं?

लोगों में भारी गुस्सा

जम्मू कश्मीर में टारगेट किलिंग से लोगों में भारी गुस्सा है। 24 अक्टूबर को होने वाले भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर लोगों में मांग उठने लगी है कि इसे रद्द किया जाए। आतंकी गोलियां बरसाते रहे और हम उनके साथ क्रिकेट खेलते रहे, अब ऐसा नहीं चलेगा।

पाकिस्तान के इशारे पर चल रहा है सब!

विश्व हिंदू परिषद के महामंत्री सुरेंद्र जैन ने कहा, जो आतंकवादी पकड़े जा रहे हैं, जो हिंदुओं को चुन-चुन कर मार रहे हैं, वह सारे के सारे पाकिस्तान से हैं । इसका मतलब पाकिस्तान के इशारे पर यह चल रहे हैं । पाकिस्तान शत्रुता निभाता रहे और हम मित्रता निभाते रहें, यह कैसे चल सकता है। मैं भारत सरकार से अपील करता हूं पाकिस्तान को शत्रु देश घोषित करें और वही व्यवहार करें, जो एक शत्रु देश के साथ होना चाहिए।

ओवैसी ने पीएम को घेरा

असदुद्दीन ओवैसी ने एक सभा में कहा, 9 फौज के सिपाही मारे गए और 24 तारीख को इंडिया पाकिस्तान का टी 20 मैच होगा। मोदी जी क्या आपने नहीं कहा था कि फौज मर रही है और मनमोहन सिंह की सरकार बिरयानी खिला रही है। अब 9 फौज के सिपाही मर गए और आप T20 खेलेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button