Crime

महिला के साथ अश्लील हरकत कर कहा- मुझे पता है यह मधुमक्खी के डंक जैसा लगता है, हुई 10 साल की जेल

 

डेस्क: दुनिया के हर कोने से अक्सर पुरुषों द्वारा महिलाओं के साथ अभद्रता करने की खबरें सामने आती रहती है। लेकिन अमेरिका में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने मानवता को शर्मसार करके रख दिया है। विकसित देशों में विकास के नाम पर लड़कियों को छेड़ना तो अब आम बात बन गई है। लेकिन उनके शरीर में अपना वीर्य इंजेक्ट कर देने का मामला काफी नया और आपत्तिजनक है।

अमेरिका के मैरीलैंड के एक सुपर मार्केट से एक शख्स को गिरफ्तार किया गया जिस पर एक महिला पर अपना वीर्य इंजेक्ट करने का आरोप लगाया गया था। दरअसल, थॉमस ब्रायन स्टेमन नाम के शख्स ने अपनी वीर्य से भरी हुई सिरिंज एक महिला के शरीर में चुभा दी। इसके बाद भी वह यहीं नहीं रुका। जब सुई चुभने पर महिला को दर्द हुआ तो थॉमस ने कहा “मुझे पता है कि यह मधुमक्खी के डंक जैसा लगता है।”

10 साल की मिली सजा

51 वर्षीय थॉमस ने यह हमला केटी पीटर्स नाम की महिला पर फरवरी 2020 में किया था। इसके बाद इस बात की शिकायत महिला द्वारा किए जाने के बाद “सीमेन अटैक” नाम से इस मामले को दर्ज किया गया और कार्यवाही की गई। मामले के घटित होने के लगभग डेढ़ साल बाद थॉमस को अपने इस कृत्य के लिए 10 साल की जेल की सजा सुनाई गई।

Semen-attack-in-maryland-americaSemen-attack-in-maryland-america

महिला के कमर में हो गया था घाव

कार्यवाही के दौरान महिला का कहना था जब वह सुपर मार्केट में प्रवेश कर रही थी तो थॉमस उससे टकरा गया था। उस वक्त महिला को कुछ भी आभास नहीं हुआ। लेकिन कुछ सेकंड के बाद उसे सुई चुभने वाली जगह पर जलन होने लगी। बाद में महिला के कमर के पास बड़ा घाव हो गया था। इस बारे में जब महिला को शक हुआ तो वह पड़ताल करने के लिए वापस उसी सुपरमार्केट में पहुंची।

गाड़ी में मिले कई और सिरिंज

वापस सुपरमार्केट पहुंचकर महिला ने वहां के सीसीटीवी फुटेज को चेक किया। जब महिला उत्थान मंच पर कुछ शक हुआ तो उसने इस बात की शिकायत पुलिस से कर दी। पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने के बाद अमेरिकन पुलिस ने भी जांच पड़ताल शुरू कर दी। बाद में थॉमस पकड़ा गया और उसकी गाड़ी से कई और ऐसे ही सिरिंज बरामद हुए। ऐसे में पुलिस का अनुमान है कि इस तरह की हरकत का मसले इससे पहले भी और इसके बाद भी कई महिलाओं के साथ की होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button