BiharCrime

ऑपरेशन प्रहार: हत्या और पुलिस पर हमले के 505 आरोपी गिरफ्तार, एएलटीएफ ने जब्त की 15 हजार लीटर शराब

डेस्क: बिहार में गंभीर आपराधिक मामलों तथा गैर कानूनी कार्य करने वाले व्यक्तियों के ऊपर बिहार सरकार नकेल कस रही है। बिहार में अपराधियों को गिरफ्तार करने के लिए ‘बज्र’ कंपनी का निर्माण किया गया है। बिहार में आपराधिक घटनाओं को रोकने एवं अपराधी को पकड़ने के लिए बिहार सरकार द्वारा वज्र कंपनी एवं प्लाटून बल का निर्माण किया गया है।

बज्र एवं प्लाटून दोनों एकजुट होकर बिहार में आपराधिक घटनाओं को रोकने का प्रयास कर रही है। बिहार में 18 से 22 दिसंबर के बीच 500 से अधिक अपराधियों को पकड़ा गया है। अपराधियों पर गंभीर मामले के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है जैसे हत्या, हत्या की कोशिश, पुलिस पर हमला इत्यादि। बज्र कंपनी एवं प्लाटून के ज्वाइंट एक्शन अभियान को ‘ऑपरेशन प्रहार’ नाम दिया गया है।

बिहार के सारण क्षेत्र से 100 से अधिक अपराधी गिरफ्तार

पुलिस के उच्च मुख्यालय के द्वारा यह बताया गया है, की गिरफ्तार किए गए अपराधियों की संख्या 505 है। गिरफ्तार हुए अपराधियों में से 64 व्यक्ति पर हत्या का मुकदमा, 62 व्यक्ति पर पुलिस पर हमला का आरोप और 112 हत्या की कोशिश के आरोपीयो को गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार हुए अपराधियों के पास से 13 हथियार एवं 60 गोलियां भी बरामद हुई हैं। इस ऑपरेशन में बिहार के सारन जिले से सबसे अधिक अपराधिक मामले सामने आए हैं। एवं सारन जिले में सबसे ज्यादा 114 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। बिहार के अन्य क्षेत्रों से भी अधिक अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है जिसमें गोपालगंज से 50 अपराधी सिवान से 43 अपराधी, पुनिया से 140 अपराधी और नालंदा से 34 अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है।

मात्र 3 दिन में जप्त हुई 15000 लीटर शराब

एएलटीएफ की सतर्कता के कारण बिहार में 15000 लीटर शराब को जप्त किया गया है। बिहार में शराब बंदी के बाद भी नहीं रुक रही है शराब बिक्री, इसके पश्चात शराब बेचना बिहार में गैरकानूनी है। बिहार में शराब को पूर्ण रुप से बंद करने के लिए बिहार सरकार द्वारा (एंटी लिकर टास्क फोर्स) एएलटीएफ का निर्माण किया गया है। केवल 3 दिन के अंदर एंटी लिकर टास्क फोर्स ने 15000 लीटर से अधिक शराब बरामद की है।

इन शराबों में कुछ देसी तथा कुछ विदेशी शराब भी बरामद किए गए हैं जिसमें 6934 लीटर देसी तथा 8072 लीटर विदेशी शराब बरामद कीया गया है। एएलटीएफ के चौकशी एवं कठिन परिश्रम के पश्चात 617 शराब की भट्टीयो को बंद किया गया है और 549 शराब विक्रेता एवं शराब के तस्करों को गिरफ्तार किया गया है।

बिहार के कैमूर जिले से सबसे अधिक 2638 लीटर शराब बरामद

पुलिस मुख्यालय ने बताया कि कैमूर मुजफ्फरपुर औरंगाबाद दरभंगा और मोतिहारी जिलों से सबसे ज्यादा शराब बरामद की गई है। आंकड़ों की बात करें तो क्या मुंह से 2638 मुजफ्फरपुर, से 1461 औरंगाबाद, से 1078 दरभंगा से 897, और मोतिहारी से 869 लीटर शराब बरामद की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button