Uncategorized

अमेरिकी राष्ट्रपति की भविष्यवाणी हुई सच, काबुल एयरपोर्ट पर हो गया हमला

डेस्क: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने शनिवार को 24 से 36 घंटे में काबुल एयरपोर्ट पर हमला होने की भविष्यवाणी की थी. उनकी भविष्यवाणी बिल्कुल सही साबित हुई और 24 घंटे के अंदर ही काबुल एयरपोर्ट पर जोरदार विस्फोट हुआ. दरअसल अफगानिस्तान से लोगों को निकालने के लिए सभी देश अपने अपने रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे हैं.

इसी बीच काबुल एयरपोर्ट के पास शनिवार को ख्वाजा बुग्रा इलाके में जोरदार विस्फोट हुआ. यह विस्फोट रॉकेट से हुए हमले के कारण हुआ. इस हमले का एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें एक घर से धुंआ उठा हुआ देखा जा रहा है. धमाके के बाद लोग छतों पर भगाते हुए दिखाई दे रहे हैं. बम ब्लास्ट के बाद आसपास के इलाकों में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है. इससे पहले बीते गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाकों से पूरा शहर दहल गया था. इसी तरह के और भी आतंकी हमले होने की आशंका जताई जा रही है.

जो बाइडेन ने की थी भविष्यवाणी

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी हमले की भविष्यवाणी की थी. उनकी इस भविष्यवाणी के बाद अमेरिका ने अपने नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट छोड़ने को भी कहा है. आतंकी हमलों की आशंका से अमेरिकी सुरक्षा बलों की ओर से लोगों को निकालने की जो प्रक्रिया चल रही है. उस पर भी असर पड़ रहा है. अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट पर बीते गुरुवार को हुए आत्मघाती हमले में 170 से ज्यादा लोगों के अलावा अमेरिका के 13 सैनिकों की मौत भी हुई थी. बता दें कि, इससे पहले जो बाइडेन ने भी अलर्ट किया था कि काबुल एयरपोर्ट पर अगले 24-36 घंटों में फिर आतंकी हमला हो सकता है.

31 अगस्त तक अफगानिस्तान छोड़ने का मिला है समय

गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन द्वारा निर्धारित समय सीमा के अनुसार सभी अमेरिकी और गठबंधन बलों के 31 अगस्त को अफगानिस्ता छोड़ना है। तालिबान ने दो दिन पहले एक आत्मघाती हमले के बाद बड़ी संख्या में लोगों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए शनिवार को काबुल एयरपोर्ट के आसपास अतिरिक्त बलों को तैनात किया है. तालिबान ने काबुल एयरपोर्ट की ओर जाने वाली सड़कों पर अतिरिक्त जांच चौकियां बनाई है, जिनमें तालिबान के वर्दीधारी लड़ाकें तैनात हैं. काबुल हवाई अड्डे के माध्यम से लाखों लोगों को सुरक्षित निकाला गया है, लेकिन वहीं हजारों लोग देश छोड़ने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

अमेरिका ने लिया था बदला

गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके के 48 घंटे के भीतर ही अमेरिका ने आइएसआइएस खुरासान के आंतकियों से अपने 13 जवानों की मौत का बदला एयरस्ट्राइक करके ले लिया. अमेरिका ने ड्रोन के जरिए इस्लामिक स्टेट के आतंकी ठिकानों पर बमवर्षा कर उसके दो आतंकियों को मार गिराया, जो माना जा रहा है कि काबुल धमाके के मुख्य साजिशकर्ता थे. अमेरिका ने कहा कि इस जवाबी कार्रवाई में किसी अफगानी की मौत नहीं हुई. अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट से संबद्ध ‘इस्लामिक स्टेट-खुरासान (आईएसआईएस-के) ने काबुल में हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर बृहस्पतिवार को हुए हमलों की जिम्मेदारी ली थी.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button