Special

लता मंगेशकर की जिंदगी का जानलेवा दौर, जहर देकर की गयी थी मारने की कोशिश

डेस्क: मां सरस्वती की उपासक, ‘स्वर कोकिला’ लता मंगेशकर ने अल्प आयु से ही संगीत का हाथ पकड़ लिया था और इसी में आगे अपना करियर बनाया। कैरियर के साथ-साथ अपने भाई बहनों का पालन पोषण करने की जिम्मेदारी भी उन्हीं के सर पर थी। इसके बावजूद भी उन्होंने संगीत जगत में उन ऊंचाइयों को छुआ जो कई लोगों के लिए स्वप्न मात्र है।

इस बात में कोई दो राय नहीं कि लता ने अपनी आवाज के दम पर म्यूजिक इंडस्ट्री को एक अलग आयाम तक पहुंचाया। संगीत के साधक उन्हें अपनी प्रेरणा मानते थे और कई लोग तो उन्हें मां सरस्वती का अवतार भी मानने लगे। लता मंगेशकर के जीवन काल में एक समय ऐसा भी आया जब उनका लिंक कई बड़ी हस्तियों के साथ होने का दावा किया जाने लगा। इस समय कई उच्च प्रोफाइल नामों के साथ उनके रोमांस की अफवाहें भी जोर-शोर से बढ़ने लगी थी। लेकिन स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने ऐसे समय में अपनी चुप्पी साध कर इन अफवाहों को हवा नहीं दिया।

Lata Mangeshkar

जब जहर देकर की गयी थी मारने की कोशिश

1963 में लता मंगेशकर के जीवन का जानलेवा दौर चल रहा था। इस समय लता 35 वर्ष की थी और उनकी तबीयत बहुत ज्यादा खराब हो गई थी। उन्हें लगातार उल्टियां हो रही थी। लेकिन उस दौर में सही समय पर डॉक्टरों का मिलना भी काफी मुश्किल था। इसी बीच डॉक्टर कपूर ने उनका सही समय पर इलाज किया जिससे उनकी जान बच गई। डॉक्टर के अनुसार लता को किसी ने जहर दे दिया था जिसकी वजह से उनकी तबीयत बिगड़ रही थी। बताया जा रहा है कि इलाज के 3 महीने बाद वह फिर से गाना रिकॉर्ड करने के लिए सक्षम हो पाई। हालांकि यह समय उनके लिए काफी कष्टदायक सिद्ध हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button